Featured Coupons

recent/hot-posts
जानती हूं मैं

जो तुम नहीं होते हो तो जानती हूं मैं अपने इत्तेफाको को मुझसे मिलने भेज दिया करते हो न जो तुम नहीं होते हो तो ये मानती हूं मैं अपने नाम का पैगाम मुझ तक पहुंचा दिया करते हो न तब ही मन ही मन पहचान जाती हूं मैं इन हवाओं में भी अपनी…

सफर अब तक का

कलम   उठाई कुछ लिखना चाहा, उन बातों पे जिनमें शायद ही मैंने कभी दिखना चाहा। अकेले भी पड़े पर सबका साया भी था, गवांया तो बहुत कुछ पर पाया भी था। उस प्यार को जिसके जैसा दुनिया में, क्या आज तक कुछ बन पाया भी था। कुछ  ख्बाहिशों को …

विचारों का शोर

आज मन में विचारों का बहुत ही ज्यादा शोर है न जाने क्यों अपनी चीजों पे यूं किया मैंने इतना गौर है इतनी सब हलचलें न जाने कैसे संभालूं कोई यूं है भी नही पास जिसकी जिंदगी में कोई जगह लूं बस खुद में ही तलाशनी है एक सूकून की बारिशें …

दिल का हिस्सा

प ता है.. जब दिल का बहुत सा हिस्सा खाली सा हो जाता है तो वो भी अपनी सांसों की रफ़्तार को तेज कर अपने खालीपन का एहसास करवाता है सहम सी जाती है  हर इक लफ्ज़ की ख्बाहिश  चाहकर भी पूरी नहीं होती इस दिल की कोई भी आजमाइश। क्या करें.. क…

नयी राह

नयी राह   ख्बाव थे जो कभी हकीकत भी बने थे सादगी के माहौल में  चार चांद भी सजे थे। जिन चीजों की चाह थी वो पूरी भी हुई थी उन सब अनछुई बातों की रोशनी एक वक्त में मुझको भी छुई थी। अलग ही समां रहा वो…

तेरी हंसी

तेरी हंसी   तु मसे शिकायतें तो बहुत हुई अब जरा थोड़ी प्यार की बातें करते है इस खफा सी जिंदगी में कुछ इकरार की बातें करते है कभी यूं चलते चलते  जब तुम मुस्कुरा जाते हो तो उस वक्त की हंसी में तुम हमे…

हिंदी दिवस

हिंदी दिवस आ ज हिंदी भाषा का दिन है लेकिन हमारा हर पल वैसे भी होता कहां इसके बिन है। पर आज ज़रा बस इसको थोड़ा और महत्व दे जाना है जो कुछ भी पाया है इससे वो उसको दिए बिना न कहीं जाना है। जिंदगी की शुरुआत से लेकर इसके…